Indian sex stories online. At allindiansexstories you will find some of the best indian sex stories online across all your favorite categories. Enjoy some of the best bhabhi and aunty sex stories, hot incest stories and also some hot sexy chat conversations. Make sure to bookmark us and come back daily to enjoy new stories submitted by our readers.

bhabhi ka sath sex-2


एक तरफ़ उनके निप्पल से दूध
निकल रहा था और दूसरी तरफ़
उनके निप्पल को मसल रहा था।
१ घंटे तक मैने उनका निप्पल
और चूत में उंगली डालता रहा
उनकी चूत गीली हो गयी थी, बाद
में मैने उसके पेट पेर किस
किया और उनके चूत के अंदर
अपनि जीभ को डालने लगा और
उनकी चूत को मैं ने अच्छी
तरह चाटा २५ मिनट तक। और
भाभी मुझे किस कर के कहने
लगीं के तुमने तो अपना काम
कर दिया अब देखो मैं क्या
करती हूं। फिर भाभी ने मेरे
लंड की टोपी पर ज़ुबान फेरनी
शुरू की, फिर धीरे धीरे पूरा
लंड अपने मुंह में ले लिया
और लोलयपोप की तरह चूसने
लगीं। भाभी बहुत अच्छा लंड
चूस रही थीं। मैं तो उस वक्त
मज़े और आनन्द की ऊंचाई पर
था। भाभी ने पहले आहिस्ता
और फिर तेज़ी से लंड चूसना
शुरू कर दिया। भाभी ने मेरा
लंड अपनी चूत पर रखा मैने एक
स्लो पुश के साथ अपना लंड
उनकी चूत में डाल दिया।
उनकी चूत पहले ही गीली हो
रही थी इसलिये पूरा लंड बड़ी
आसानी से उनकी चूत में चला
गया। पहले तो मैं भाभी को
आहिस्ता आहिस्ता चोदता रहा
फिर मैने अपनी स्पीड तेज़ कर
दी और भाभी को शक्ति से
चोदने लगा। भाभी चुदाई का
पूरा मज़ा ले रही थीं और
आआअह्ह ऊओह्हह्ह ऊउफ़्फ़फ़्फ़
ह्हहयययययीए और तेज़ प्लीज़
तेज़ उफ़्फ़फ़्फ़ ऊऊह्हह्ह की
आवाज़ें निकाल रही थीं। उनके
ब्रेस्ट्स हर झटके के साथ
हिल रहे थे। जो एक हसीन और
दिलकश नज़ारा था।

मैं चोदने के बाद मैने भाभी
को घोड़ी बनाया तो उनकी
खूबसूरत और चौड़ी गांड ऊपर
को उठ आई और उनके ब्रेस्ट्स
किसी आम की तरह लटकने लगे।
मैने भाभी की गांड पर हाथ
फेरते हुये लंड उनकी चूत
में डाल दिया और उनके
ब्रेस्ट्स पकड़ कर ज़ोर ज़ोर
से झटके लगाने लगा मैं भाभी
को जी जान से चोद रहा था और
भाभी भी चुदाई में भरपूर
साथ दे रही थी। काफ़ी देर
चुदने के बाद भाभी ठंडी पड़
गयीं, मैं भी अपने
क्लाइमेक्स पर था। मैने
भाभी को कहा कि मैं छूटने
वाला हूं तो उन्होने कहा कि
कोई बात नहीं तुम मेरे अंदर
ही निकालो। मेरे लंड से
वीर्य का फ़ौव्वारा निकला और
भाभी की चूत वीर्य से भर गयी
मैं भी थक कर भाभी के ऊपर लेट
गया। थोड़ी देर बाद मैने लंड
भाभी की चूत से निकाला जो
वीर्य और भाभी के जूस से भरा
हुआ था, भाभी ने फिर मेरे लंड
को चाटना शुरु कर दिया और
इसे बिल्कुल साफ़ कर दिया।

अब भाभी ने कहा संदीप तुम तो
बहुत एक्सपर्ट लगते हो,
मुझसे पहले कितनो के साथ
चुदाई कर चुके हो, मैने कहा
भाभी चुदाई तो १४-१५ के साथ
किया है लेकिन जैसे मम्मे
आपके हैं वैसे मम्मे मैने
आजतक नहीं चुसे हैं, आपके
मम्मे बहुत टेस्टी हैं। ये
कहते हुए मैने अपनी उंगली
फ़िर से उनकी चूत में डाल दी
और भाभी ने
स्ससस्सस्ससाआआआ करती रही,
बहुत अच्छा लग रहा है। और
फिर मैने झटके से भाभी की
तरीफ़ की कि सच में आप बहुत
खूबसूरत हो तो भाभी ने
मुझसे कहा कि ये क्या भाभी
भाभी लगा रखा है, पहले ये
बताओ तुम मुझे रात भर
चोदोगे या नहीं। ये सुनकर
तो मुझे और भी खुशी महसूस
हुई। इसका मतलब ये नहीं कि
मैं और किसी के साथ रात नहीं
गुजारी है। मैने तो पिछले ४
सालों से कितनी अपनी
क्लासमेट के साथ रात गुजारी
है पर भाभी के जैसा पेशेंस
और किसी में मैने नहीं देखा
था इसलिये मुझे बहुत खुशी
महसूस हो रही थी।

तब मैने उनसे कहा कि मैने
आपको दूसरे एंगल से चोदना
चाहता हूं तो बोली कौन से
एंगल से चोदोगे अब मुझे,
मैने कहा कि आप ज़मीन पर लेट
जाइए और अपने पैर को उठा कर
बेड पर रख दीजिये और
उन्होने ऐसे ही किया मैं
उनके पैरों के बीच में गया
और उसको फ़ैला कर अपने दोनो
कंधों पर रख कर उनकी फ़ुद्दी
के छेद पर अपना लंड रखकर
धक्के मारने लगा, इस तरीके
से उन्हे भी अच्छा लगने लगा
और बोली बहुत मजा आ रहा है
मेरे राजा, जैसे चोदना हो
चोदो मुझे, मैं करीब उस एंगल
से १० मिनट तक चोदने के बाद
चूत से लंड को निकाल कर वापस
गांड में डाल दिया और चोदने
लगा। मैने इसी तरह हर ५ मिनट
के बाद चूत और गांड की चुदाई
करता रहा। लगभग २५ -३० मिनट
तक इसी तरह चोदने के बाद मैं
बोला, “मैं अब झड़ने वाला हूं।
तुम बताओ कि मेरे लंड का
पानी कहां लेना चाहती हो,
अपनी चूत में या गांड में।”
उन्होने कहा, “तुम मेरी गांड
में ही पानी निकाल दो, चूत
में तो तुम पहले भी निकाल
चुके हो।” फ़िर मैने अपना
सारा अनमोल रतन उनकी गांड
में डाल दिया और मैं बेड पर
आकर लेट गया, तभी उनकी नज़र
घड़ी पर गयी तो देखा कि ५ बजने
वाले हैं तभी उन्होने मेरे
होंठों पर जोर से किस किया
और कहने लगी जो मजा
तुम्हारे साथ आता है वो
मुझे उनके साथ नहीं आता है।

फ़िर भाभी के मना करने के बाद
भी मैने घोड़ी बना कर फिर से
उनकी चुदाई शुरु कर दी। इस
बार मैने केवल चूत की ही
चुदाई की। इस बार लगभग १/२
घंटे तक चोदा तब कहीं जा कर
मेरे लंड से पानी निकला। अब
तक सुबह हो चुकी थी। भाभी ने
कहा के उनकी चूत और गांड में
दर्द बहुत हो रहा है लेकिन
इस चुदाई से जो मज़ा मिला
उसके आगे ये दर्द कुछ भी
नहीं। फ़िर मैं अपने घर आ गया
और जब भी मुझे ये मौका मिलता
मैं उन्हे छोदता रहा।