Indian sex stories online. At allindiansexstories you will find some of the best indian sex stories online across all your favorite categories. Enjoy some of the best bhabhi and aunty sex stories, hot incest stories and also some hot sexy chat conversations. Make sure to bookmark us and come back daily to enjoy new stories submitted by our readers.

Mameri Behin Dolly ki Choot-2


उसके बाद मामा जी ने आकर डी
जे बंद करवा दिया।
नाच नाच कर बहुत थक गए थे, हम
पास में पड़ी कुर्सियों पर
बैठ गए।
डॉली भी थक कर हाँफते हुए आई
और मेरे बराबर वाली कुर्सी
पर बैठ गई।
मैंने जब पूछा कि ‘लगता है
थक गई?’ तो वो कुछ नहीं बोली
बस उसने अपना सर मेरे कंधे
पर रख दिया।
मुझे अजीब सा लगा क्यूंकि
बाकी लोग भी थे वहाँ।
मैंने डॉली के काम में धीरे
से कहा कि मैं छोटे मामा के
घर की तरफ जा रहा हूँ तुम भी
चलोगी क्या?
वो बिना कुछ बोले ही चलने को
तैयार हो गई।
छोटे मामा का घर दो गली छोड़
कर ही था, मैंने उसको आगे
चलने को कहा, वो चली गई।
उसके एक दो मिनट के बाद मैं
भी उठा और चल पड़ा तो देखा कि
वो गली के कोने पर खड़ी मेरा
इंतज़ार कर रही थी।
‘कहाँ रह गये थे… मैं कितनी
देर से इंतज़ार कर रही हूँ।’
मेरे आते ही उसने मुझे
उलाहना दिया।
मैंने गली में इधर उधर देखा
और बिना कुछ बोले उसको
अँधेरे कोने की तरफ ले गया
और उसकी पतली कमर में हाथ
डाल कर उसको अपने से चिपका
लिया।
उसने जैसे ही कुछ बोलने के
लिए अपने लब खोले तो मैंने
बिना देर किये अपने होंठ
उसके होंठों पर रख दिए।
उसने मुझ से छूटने की थोड़ी
सी कोशिश की पर मेरी पकड़
इतनी कमजोर नहीं थी।
‘जय, तुमने बहुत देर कर दी…
मैं तो बचपन से ही तुमसे
शादी का सपना संजोये बैठी
थी।’ उसकी आवाज में एक तड़प
मैंने महसूस की थी पर अब उस
तड़प का कोई इलाज नहीं था
सिवाय चुदाई के।
क्यूंकि आप सबको पता है
प्यार गया तेल लेने… अपने
को तो सिर्फ चुदाई से मतलब
है।
मैं उसको लेकर छोटे मामा के
घर ले जाने की बजाय पीछे ले
गया जहाँ मेरी गाडी खड़ी थी।
वहाँ पहुँच कर मैंने उसको
गाड़ी में बैठने के लिए कहा
तो वो बोली- इतनी रात को कहाँ
जाओगे? सब लोग पूछेंगे तो
क्या जवाब देंगे?
मैंने उसको चुप रहने को कहा
और उसको गाड़ी में बैठा कर चल
दिया।
सब या तो सो चुके थे या फिर
सोने की जगह तलाश करने में
लगे थे, सारा शहर सुनसान पड़ा
था, वैसे भी रात के दो तीन
बजे कौन जागता मिलता।
मैंने गाड़ी शहर से बाहर
निकाली और एक गाँव को जाने
वाले लिंक रोड पर डाल दी।
करीब दो किलोमीटर जाने के
बाद मुझे एक सड़क से थोड़ा
अन्दर एक कमरा नजर आया।
मैंने गाड़ी रोकी और जाकर उस
कमरे को देख कर आया। गाँव के
लोग जानते हैं कि किसान खेत
में सामान रखने के लिए एक
कमरा बना कर रखते हैं। यह
कमरा भी वैसा ही था पर मेरे
मतलब की एक चीज मुझे अन्दर
नजर आई। वो थी एक खाट
(चारपाई)
उस पर एक दरी बिछी हुई थी।
मैंने डॉली को वहाँ चलने को
कहा तो वो मना करने लगी, उसको
डर लग रहा था। वैसे वो अच्छी
तरह से समझ चुकी थी कि मैं
उसको वहाँ क्यूँ लाया हूँ।
क्यूंकि अगर उसको पता ना
होता तो वो मेरे साथ आती ही
क्यूँ।
मैंने उसको समझाया कि कुछ
नहीं होगा और सुबह से पहले
यहाँ कोई नहीं आएगा तो वो
डरते डरते मेरे साथ चल पड़ी।
कुछ तो डर और कुछ मौसम की
ठंडक के कारण वो कांप रही
थी।
मैंने गाड़ी साइड में लगाईं
और डॉली को लेकर कमरे में
चला गया।
कमरे में बहुत अँधेरा था,
मैंने मोबाइल की लाइट जला
कर उसको चारपाई तक का
रास्ता दिखाया।
वो चारपाई पर बैठने लगी तो
मैंने उसका हाथ पकड़ा और
उसको अपनी तरफ खींचा तो वो
एकदम से मेरे गले से लग गई।
वो कांप रही थी।
मैंने उसकी ठुड्डी पकड़ कर
उसका चेहरा ऊपर किया तो
उसकी आँखें बंद थी।
मैंने पहला चुम्बन उसकी बंद
आँखों पर किया तो वो सीहर
उठी, उसके बदन ने एक झुरझुरी
सी ली जिसे मैं अच्छे से
महसूस कर सकता था।
फिर मैंने उसके नाक पर एक
चुम्बन किया तो उसके होंठ
फड़फड़ा उठे, जैसे कह रहे हो कि
अब हमें भी चूस लो।
मैंने उसके बाद उसके गालों
को चूमा, उसके बाद जैसे ही
मैंने अपने होंठ उसके दूसरे
गाल पर रखने चाहे तो डॉली ने
झट से अपने होंठ मेरे
होंठों पर रख दिए और फिर
लगभग दस मिनट तक हम एक दूसरे
के होंठ चूमते रहे, जीभ डाल
कर एक दूसरे के प्रेम रस का
रसपान करते रहे।
मेरे हाथ उसके बदन का जायजा
लेने लगे, मैंने उसकी साड़ी
का पल्लू नीचे किया तो उसकी
मस्त मस्त चूचियों का पहला
नजारा मुझे दिखा।
बाईस साल की मस्त जवान लड़की
की मस्त गोल गोल चूचियाँ जो
उसके काले रंग के ब्लाउज
में नजर आ रही थी, देखकर दिल
बेकाबू हो गया, मैंने बिना
देर किये उसकी चूचियों को
पकड़ कर मसलना शुरू कर दिया।
डॉली के होंठ अभी भी मेरे
होंठों पर ही थे। डॉली ने
मुझे मोबाइल की लाइट बंद
करने को कहा।
मुझे भी यह ठीक लगा पर मैं
पहले डॉली के नंगे बदन को
देखना चाहता था, मैंने डॉली
के कपड़े उसके बदन से कम करने
शुरू किये तो डॉली ने भी
मेरे कपड़े कम करने में मेरी
मदद की।
अगले दो मिनट के अन्दर ही
डॉली सिर्फ पैंटी में और
मैं सिर्फ अंडरवियर में
डॉली के सामने था, मैं डॉली
के बदन को चूम रहा था और डॉली
के हाथ मेरे अंडरवियर के
ऊपर से ही मेरे लंड का जायजा
ले रहे थे।
मैं नीचे बैठा और एक ही झटके
में मैंने डॉली की पैंटी
नीचे सरका दी।
क्लीन शेव चिकनी चूत मेरे
सामने थी, चूत भरपूर मात्रा
में कामरस छोड़ रही थी, मैं
चूत का रसिया अपने आप को रोक
नहीं पाया और मैंने डॉली की
टाँगें थोड़ी खुली की और
अपनी जीभ डॉली की टपकती चूत
पर लगा दी।
डॉली के लिए पहली बार था, जीभ
चूत पर महसूस करते ही डॉली
का बदन कांप उठा और उसने
जल्दी से आपनी जांघें बंद
कर ली।
मैंने डॉली को पड़ी चारपाई
पर लेटाया और अपना अंडरवियर
उतार कर डॉली के बदन को
चूमने लगा, उसकी चूचियों को
चूस चूस कर और मसल मसल कर लाल
कर दिया था।
डॉली अब बेकाबू होती जा रही
थी, उसकी लंड लेने की प्यास
इतनी बढ़ चुकी थी कि वो
पागलों की तरह मेरा लंड पकड़
कर मसल रही थी, मरोड़ रही थी,
डॉली सिसकारियाँ भर रही
थी।
लंड को जोर से मसले जाने के
कारण मेरी भी आह निकल जाती
थी कभी कभी!
मैं फिर से डॉली की जाँघों
के बीच में आया और अपने होंठ
डॉली की चूत पर लगा दिए और
जीभ को जितनी अंदर जा सकती
थी, डाल डाल कर उसकी चूत
चाटने लगा।
डॉली की चूत बहुत छोटी सी
नजर आ रही थी, देख कर लग ही
नहीं रहा था कि यह चूत कभी
चुदी भी होगी, पाव रोटी जैसी
फूली हुई चूत जिसके बीचों
बीच एक खूबसूरत सी लकीर
बनाता हुआ चीरा।
उंगली से जब डॉली की चूत को
खोल कर देखा तो लाल रंग का
दाना नजर आया। मैंने उस
दाने को अपने होंठों में
दबाया तो यही वो पल था जब
डॉली की झड़ने लगी थी। डॉली
ने मेरा सर अपनी चूत पर दबा
लिया था, चूत के रसिया को तो
जैसे मन चाही मुराद मिल गई
थी, मैं चूत का पूरा रस पी
गया।
रस चाटने के बाद मैंने अपना
लंड डॉली के सामने किया तो
उसने मुँह में लेने से मना
कर दिया, उसने पहले कभी ऐसा
नहीं किया था।
मैंने डॉली को समझाया- देखो,
मैंने तुम्हारी चूत चाटी तो
तुम्हें मज़ा आया ना… और अगर
तुम मेरा लंड मुँह में लोगी
तो मुझे भी मज़ा आएगा। और फिर
लंड का स्वाद मस्त होता है।
फिर डॉली ने कुछ नहीं कहा और
चुपचाप मेरा लंड अपने
होंठों में दबा लिया।
डॉली के नाजुक नाजुक गुलाब
की पंखुड़ियों जैसे होंठों
का एहसास सच में गजब का था।
पहले ऊपर ऊपर से लंड को
चाटने के बाद डॉली ने
सुपाड़ा मुँह में लिया और
चूसने लगी। मेरा मोटा लंड
डॉली के कोमल होंठों के लिए
बहुत बड़ा था।
तभी मेरी नजर मोबाइल की घडी
पर गई तो देखा साढ़े तीन बज
चुके थे।
गाँव के लोग अक्सर जल्दी उठ
कर घूमने निकल पड़ते हैं तो
मैंने देर करना ठीक नहीं
समझा और डॉली को चारपाई पर
लेटाया और अपने लंड का
सुपाड़ा डॉली की चूत पर
रगड़ने लगा।
डॉली लंड का एहसास मिलते ही
बोल पड़ी- जय, प्लीज धीरे करना
तुम्हारा बहुत बड़ा है मैं
सह नहीं पाऊंगी शायद।
मैंने झुक कर उसके होंठों
को चूमा और फिर लंड को पकड़ कर
उसकी चूत पर सेट किया और एक
हल्का सा धक्का लगाया।
चूत बहुत टाइट थी, लंड अन्दर
घुस नहीं पाया और साइड में
फिसलने लगा।
मेरे लिए अब कण्ट्रोल करना
मुश्किल हो रहा था तोमैंने
लंड को दुबारा उसकी चूत पर
लगाया और लम्बी सांस लेकर
एक जोरदार धक्के के साथ लंड
का सुपाड़ा डॉली की चूत में
फिट कर दिया।
‘उईईई माँ मररर गईई…’ डॉली
की चीख निकल गई।
मैंने जल्दी से डॉली के
होंठों पर होंठ रखे और बिना
देर किये दो और धक्के लगा कर
लगभग आधा लंड डॉली की चूत
में घुसा दिया।
डॉली ऐसे छटपटा रही थी जैसे
कोई कमसिन कलि पहली बार लंड
ले रही थी।
चुदाई में रहम करने वाला
चूतिया होता है…
मैंने चार पांच धक्के आधे
लंड से ही लगाये और फिर दो
जोरदार धक्कों के साथ ही
पूरा लंड डॉली की चूत में
उतार दिया।
डॉली मुझे अपने ऊपर से
उतारने के लिए छटपटा रही
थी।
पूरा लंड अन्दर जाते ही
मैंने धक्के लगाने बंद कर
दिए और डॉली की चूचियों को
मुँह में लेकर चूसने लगा।
‘जय.. छोड़ दो मुझे… मुझे बहुत
दर्द हो रहा है… लगता है
मेरी चूत फट गई है… प्लीज
निकाल लो बाहर मुझे नहीं
चुदवाना… छोड़ दो फट गई है
मेरी!’
मैं कुछ नहीं बोला बस एक
चूची को मसलता रहा और दूसरी
को चूसता रहा।
कुछ ही देर में डॉली का दर्द
कम होने लगा तो मैंने
दुबारा धीरे धीरे धक्के
लगाने शुरू कर दिए।
डॉली की चूत बहुत टाइट थी,
ऐसा लग रहा था जैसे मेरा लंड
किसी गर्म भट्टी में घुस
गया हो और उस भट्टी ने मेरे
लंड को जकड रखा हो।
कुछ देर ऐसे ही धीरे धीरे
चुदाई चलती रही, फिर लंड ने
भी डॉली की चूत में जगह बना
ली थी। अब तो डॉली भी कभी कभी
अपनी गांड उठा कर मेरे लंड
का स्वागत करने लगी थी अपनी
चूत में।