Indian sex stories online. At allindiansexstories you will find some of the best indian sex stories online across all your favorite categories. Enjoy some of the best bhabhi and aunty sex stories, hot incest stories and also some hot sexy chat conversations. Make sure to bookmark us and come back daily to enjoy new stories submitted by our readers.

Sex story meri


कहानी
मेरी और मेरी गर्ल फ़्रेन्ड
की है, जब हम पढ़ते थे।
शिवानी उसी साल हमारे वर्ग
में नई-नई आई थी। मैं
सीधा-साधा सा लड़का था। पर
पढ़ने-लिखने में अपने वर्ग
में सबसे तेज था। शिवानी भी
पढ़ाई के मामले में बहुत
अच्छी थी। जल्द ही हम दोनों
में दोस्ती हो गई। अब मैंने
उसे अलग नजरों से देखना
शुरू कर दिया था। शायद वह
मेरी नजरों की भाषा समझ रही
थी। हम दोनों एक दूसरे से
मिलने जुलने लगे थे। वह
जवानी की दहलीज पर कदम रख
चुकी थी। जब भी मैं उसके
उभरे संतरे जैसे चूचियों को
देखता था तो मेरे मन में एक
ही ख्याल आता था कि अभी जाकर
उनका सारा रस निकालकर पी
जाऊं। स्कर्ट पहने हुए उसकी
कमर एवं जांघों को देखकर
मुंह में पानी आ जाता था। वह
कभी भी अपने होंठो पर
लिपस्टिक नहीं लगाती थी,
फिर भी उसके होंठ गुलाबी
लगते थे। हर वक्त उसके
होंठों को चूसने का दिल
करता था। एक दिन मैंने
हिम्मत जुटा कर उसे लंच
ब्रेक में अलग ले जाकर उसे
कह दिया- मैं तुमसे बहुत
प्यार करता हूँ। पहले वह
घबराई पर कुछ सेकंड के बाद
वह मुस्कुराते हुए वहां से
भाग गई। मैं समझ गया कि
“लड़की हँसी मतलब फँसी”। फिर
क्या था हम दोनों एक दूसरे
को चोरी-चोरी नजरों से
देखने लगे। मौका मिलते ही
उसकी गोल छोटी-छोटी चूचियों
को दबा देता। इसी तरह कई
महीने गुजर गए। बस चुदाई के
मौके की तलाश कर रहा था।
कभी-कभी वह अपने सहेलियों
के साथ मेरे घर पर भी आ जाती
थी। एक दिन अच्छा मौका मिला,
पापा रोज की तरह अपने काम पर
और मम्मी और बहन मेरी बुआ के
घर चली गई थी। इत्तेफाक से
वह रविवार का दिन था। मैंने
उसे बहाने से बुलाया। वह
अकेले ही मेरे घर आई। जैसे
ही मैंने दरवाजा खोला मैं
उसे देखकर सुन्न रह गया।
उसने गुलाबी सूट पहन रखा था,
जिसमें वह बहुत सुंदर लग
रही थी। वह मुझे देखकर हँसी
और घर के अन्दर आ गई। कुछ देर
बाद हम दोनों मेरे बेडरूम
में एक ही बेड पर लेटकर
फ़िल्म देखने लगे। फिर मेरे
मन में एक शरारत सूझी, मैंने
उठकर एक सेक्सी फ़िल्म लगा
दी। जिसमे एक सुहागरात का
सीन आ रहा था। वह पेट के बल
लेट कर फ़िल्म देखने लगी।
जिससे उसकी चुचियां बेड पर
दब रही थी। फिर मुझे ऐसा
महसूस हुआ कि फ़िल्म देखकर
उसे भी कुछ हो रहा था।
अचानक उसने मुझसे पूछ लिया-
तुमने यह सब किया है कभी?
मैंने अनजान बन कर पूछा-
क्या ? उसने कहा- यही जो इस
वक्त टीवी में दिख रहा है।
मैंने कहा- नहीं ! जो कि सही
था। मैंने पूछा- क्या तुमने ?
वह शरमाते हुए बोली- नहीं।
फिर मैं थोड़ा हिम्मत करके
बोला- चलो आज हम दोनों करके
देखते हैं। यह सुनकर वह उठ
कर बैठ गई और बोली- मैं तो
ऐसे ही कह रही थी, नहीं, यह सब
ठीक नहीं है। मैंने कहा- तो
सीखेंगे कब ? वह बोली- नहीं,
इसमें बहुत दर्द होता है।
मैंने कहा- तुम्हें कैसे
पता ? वह बताने लगी कि उसकी
सहेली ने बताया था जब उसकी
शादी हुई थी। फिर मैंने कहा-
शुरू में थोड़ा दर्द होता
है, फिर बहुत मजा आता है,
मैंने किताब में पढ़ा था।
उसने कहा- तुम बहुत गंदे हो,
कहकर सर को झुका लिया। बस
फ़िर क्या था, मैंने आगे
बढ़कर उसके हाथों को चूम
लिया, फिर उसके गुलाबी और
कोमल होंठों को अपने होंठों
से सटाया तो उसकी गर्म
साँसे महसूस हुई जोकि काफी
तेज चल रही थी। उसके होंठों
को करीब १० मिनट तक चूसता
रहा। वह भी अपनी जीभ मेरे
मुंह में डालकर चाट रही थी।
फिर मेरे हाथ उसके सर पर से
सरक कर उसके चूचियों पर आ
गए। जब मैंने उसकी चूचियों
को हाथों से दबाया तो वह
सिसिया कर बोली- नहीं राज, आज
नहीं ! आज मुझे बहुत डर लग
रहा है। मैंने उसकी एक न
सुनी और धीरे धीरे उसके
सू्ट को खोलने लगा। कुछ देर
बाद उसके बदन पर केवल पैंटी
और छोटी सी ब्रा ही बच गई।
फिर मैंने उसके गले पर
चूमते हुए उसके पीछे जाकर
ब्रा के हुक खोल दिए। वाह,
क्या नज़ारा था। वह मेरे
सामने लगभग नंगी खड़ी थी।
मुझे समझ नहीं आ रहा था कि अब
मैं इसके साथ क्या करूँ। वह
केवल सर झुकाए खड़ी थी। फिर
मैं आगे जाकर उसके चूचियों
को धीरे धीरे मसलने लगा जिस
कारण उसकी छोटी सी निप्पल
कड़ी लगने लगी थी। उसके
निप्पल को अपने जीभ से
चाटने लगा जिससे उसके मुंह
से सी……सी….की आवाजें आने
लगी थी। मैं समझ गया कि अब वह
गरम होने लगी है। फिर अचानक
मैंने उसके हाथ अपने 8 इंच
खड़े लण्ड पर महसूस किया जो
उसे पैंट के ऊपर से ही सहला
रही थी। मैंने फट से अपने
पैंट और अंडरवियर खोल दिया।
वह मेरे लण्ड को आगे पीछे कर
रही थी और मैं उसके चूचियों
को बारी बारी से कुत्ते की
तरह चाट रहा थ। फिर मैंने
उसे घुटने के बल बैठाया और
अपने लण्ड को चाटने को कहा।

Post Views :217